Sunday, May 3, 2009

न तुम हमें जानो न हम तुम्हे जाने .....

हेमंत दा की आवाज में जादू है ..मदहोश कर देता है । कई साल पहले इस गाने को सुना था , तब लगा था की किशोर दा की आवाज है । बाद में पता चला की ये आवाज हेमंत दा की है ।
प्रस्तुतीकरण भी तो देखिये जनाब देवानंद गाने के बोल शुरू करते है ..उस वक्त फ़िल्म की हिरोइन वहीदा रहमान सोई हुई रहती है । आवाज सुन जब वह जगती है तो आँखें अलसाई हुई जैसे गानों ने जबरदस्ती जगा दिया हो.... ..एकदम नेचुरल लगता है ।
नींद से जागने के बाद आवाज को ऐसे खोजती है जैसे नींद में चल रही हो । ब्लैक सारी में किसी खुबसूरत परी से कम नही लग रही और आँखें ..कुछ मत पूछिये केवल देखिये कहानी ख़ुद ब ख़ुद बयां हो जायेगी । यहाँ ब्लैक एंड ह्वाईट फ़िल्म में इतनी सुंदर दिखी है.....इतनी सुंदर तो रंगीन फिल्मों में भी नही दिखी ।
ये मौसम ये रात चुप है ...ये होठों की बात चुप है ..खामोशी सुनाने लगी ये दास्ताँ .....
तो फ़िर देर किस बात की है , खामोशी से इस गाने को सुना जाय .....






"Baat Ek Raat Ki" [1962] is an Indian Hindi film directed by Shankar Mukherjee. Starring Dev Anand and Waheeda Rehman. Music is by S D Burman.... Hemanta Kumar Mukhopadhyay is singer.

1 comment:

Babli said...

बहुत बहुत शुक्रिया की आपको मेरी शायरी और पेंटिंग पसंद आई! मैं पेंटिंग करती हूँ और सोचा की क्यूँ न शायरी के साथ अपनी बनाई हुई पेंटिंग लगाऊ तो और अच्छा लगेगा!
आपने बहुत ही बढ़िया लिखा है! हेमंतदा मेरे सबसे पसंदीदार गायक है और उनका ये गाना "न तुम हमें जानो..." मुझे बेहद पसंद है! उनकी आवाज़ में एक अलग सी बात थी! हेमंतदा के आलावा मुझे मन्नाडे और किशोर जी के गाने भी बहुत पसंद है!